अनादिकाल काल से चले आ रहे सनातन धर्म की जय हो

Friday, 5 July 2013

73 मंडलावत राठोड़ 74 भाखरोत राठोड़ (बालावत ) और 75.पाताजी राठोड़ (पातावत )

73.मंडलावत राठोड़ :-राव रिड़मल के पुत्र थे | मंडला जी ने विक्रमी संवत 1522 में सारुंड़ा (बीकानेर )राज्य पर अधिकार कर लिया था | राव बीकाजी रे साथै मंडलोजी आया जोधपुर सु सारुंडो पर कब्ज़ा कीना 84 गाँव थे | यह इनका मुख्य ठिकाना था | बीदा द्वारा मोहिलावाटीपर अधिकार करने के समय मंडलोजी ने सहायता की | बीका ने जोघपुर पर चढ़ाई की तब भी मंडला साथ थे | जोधा द्वारा नागोर के खान पर आक्रमण करने के समय मंडला ने वीरता दिखाई और घायल हो गए | पलाणा नामक स्थान पर हुए 1539 विक्रमी के युद्ध में मंडला ने वीरगति पाई | इन्ही के वंशज मंडलावत राठोड़ है | इनके ठिकाने निम्न प्रकार है |
सारुंडा (१२ गाँव )(बीकानेर राज्य में )भवराणी (दो गाँव ) जोधपुर राज्य में | इनके अलावा चरकड़ा ,टांट ,सीलवा ,हाँसासर भोजास (बीकानेर राज्य में सारुंडा के पट्टे के गाँव ) चोढा ,सराणा (जालोर )पाणवा (जालोर )बसवाणी (नागोर )खुड़ी  बड़ी (मेड़ता )चामडीयास (सोजत )घाणसा (जसवंतपुरा )नणीयास (मेड़ता )बीसरोट (जालोर )पालड़ी सिधरी (मेड़ता ) खारीयो (नागोर ) ये सब ठिकाने जोधपुर राज्य के थे | ऐक घर इनका मेरे गाँव तेजमालता में भी है |

74.भाखरोत :- बाला राठोड़ - राव रिड़मल के पुत्र भाखरसी के वंशज भाखरोत कहलाये | इनके पुत्र बाला बड़े बहादुर थे | इन्होने कई युधों में वीरता दिखाई | चितोड़ के पास कपासण में राठोड़ों और शिशोदीयों में युद्ध हुआ | इस युद्ध में बाला घायल हुए | सिंधलो से विकर्मी संवत 1536 में जोधपुर का युद्ध मणीयारी नामक स्थान पर हुआ | इस युद्ध में चांपाजी मारे गए | बाला ने सिन्ध्लों को भगाकर अपने काकाजी का बदला लिया | इन्ही बाला के वंशज बाला राठोड़ कहलाये | मोकलसर (सिवाणा )नीलवानो (जालोर ) मांडलवा (जालोर ) इनके ताजीमी ठिकाने थे | एलानो ,ओडवाणों,सीवाज आदी इनके छोटे -छोटे ठिकाने थे |

75. पाताजी राठोड़ :- राव रीड के पुत्र पाता भी बड़े वीर थे | वि.सं.1495 में कपासण (चितोड़ के पास ) स्थान पर सिसोदियों व् राठोड़ों में युध्द हुआ | इस युद्ध में पाताजी वीरगति प्राप्त हुए | इनके वंशज पातावत राठोड़ कहलाये | पातावतों के आऊ (फलोदी ४ गाँव ) करण (जोधपुर ) पलोणा (फलोदी ) ताजीम के ठिकाने थे | इनके आलावा अजाखर ,आवलो,केरलो ,केलणसर खारीयो (मेड़ता ) खारीयो (फलोदी )घंटियाली ,चिमाणी ,चोटोलो ,पलीनो ,पीपासर ,भगुआने श्री बालाजी ,मयाकोर,माडवालो ,मीठठियो,भुंडासर ,बाडी,रणीसीसर रोहीनो ,लाडीयो ,लुणो,लुबासर ,सेवड़ी आदी छोटे २ ठिकाने जोधपुर रियासत में थे |

No comments:

Post a Comment